Aadivasi vadya yantra kaise hote hai? Sing Baja kya hota hai?

Aadivasi vadya yantra kaise hote hai? Sing Baja kya hota hai?

Aadivasi vadya yantra kaise hote hai? Sing Baja kya hota hai? यदि आप संगीत music में थोड़ा बहुत भी रुचि intrest रखते हैं, तो आपको पुराने जमाने के वाद्य यंत्रों musical instrument के बारे में जानने का मन कभी ना कभी तो जरूर करता ही होगा।

आज के इस दुनिया में शायद ही ऐसे लोग होंगे जो संगीत music को पसंद ना करते हो, कहने का अर्थ यह है कि अधिकांश लोग संगीत सुनना, गुनगुनाना, बनाना या फिर बजाना आदि पसंद करते ही हैं, यदि आप भी उनमें से हैं तो आदिवासी वाद्य यंत्र कैसे होते हैं? सींग बाजा क्या होता है? इस पोस्ट के जरिए हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको Aadivasi vadya yantra kaise hote hai? Sing Baja kya hota hai? के बारे में बहुत कुछ जानने व समझने में मदद help करेगी।

इस post के जरिए हम पुराने, प्राचीन, भूले बिसरे वाद्य यंत्रों musical instrument को आपके सामने लाने तथा इसकी जानकारी आप तक पहुंचाने की कोशिश करेंगे। हम आपको आदिवासी वाद्य यंत्र या प्राचीन वाद्य यंत्रों के बारे में लगभग सारी जानकारी देंगे जिसे आपने शायद ही कहीं सुना या देखा होगा।

तो आइए जानते हैं, आदिवासी वाद्य यंत्र कैसे होते हैं? सींग बाजा क्या होता है? आदि के विषय में विस्तार से। यह जानकारी कुछ इस प्रकार से होने वाली है-

वाद्य यंत्र की जानकारी vadya yantra ki jankari

Aadivasi vadya yantra kaise hote hai? Sing Baja kya hota hai? जानने से पहले हम वाद्य यंत्र musical instrument के बारे में जानेंगे, वाद्य यंत्र के बारे में बहुत लोगों को पता होगा और बहुत लोगों को नहीं पता होगा तो आइए हम आपको इस पोस्ट के जरिए बताते हैं कि वाद्य यंत्र क्या होता है।

वाद्य यंत्र अर्थात ऐसा यंत्र या वस्तु जिसे बजाने या ठोकने से मधुर आवाज आए या मधुर ध्वनि जो हमारे कानों को सुकून पहुंचाए वाद्य यंत्र कहलाता है। वाद्य यंत्र के विभिन्न प्रकार होते हैं, परंतु इसे मुख्य रूप से तीन भागों में वर्गीकृत classify किया गया है-


१) तंतु वाद्य यंत्र अर्थात जिस वाद्य यंत्र में तारों के प्रयोग से ध्वनि निकाली जाती है, जैसे:- एकतारा।

२) सुषिर वाद्य यंत्र अर्थात जिस वाद्य यंत्र को हवा के मदद से बजाया जाता है, जैसे:- पीयू।

३) ताल वाद्य यंत्र अर्थात जिसे हाथों से बजाया जाता है, जैसे:- मांदर।

वर्तमान समय में आपको विभिन्न प्रकार के वाद्य यंत्र देखने को मिलेंगे जिसमें मुख्यत: electronic musical instrument भी होते हैं आदि।

आदिवासी वाद्य यंत्र किन-किन चीजों से बनते हैं aadivasi vadya yantra kin chijon se bante Hain

यू तो वर्तमान समय में वाद्य यंत्र अधिकतर आधुनिक उपकरणों modern gadgets द्वारा बनाया जाता है, परंतु पुराने समय में आदिवासी वाद्य यंत्र प्राकृतिक वस्तुओं का प्रयोग करके बनाया जाता था और वर्तमान समय के आदिवासी भी प्राकृतिक वस्तुओं से वाद्य यंत्र बनाते हैं।

इस प्रकार के वाद्य यंत्र बनाने में प्रमुख रूप से जानवरों के खाल animal skin, बांस की खोखली लकड़ी तथा लौकी के सूखे फल आदि मुख्य वस्तुओं से यह वाद्य यंत्र तैयार हुआ करते हैं। इस प्रकार की वस्तुओं से बने वाद्य यंत्र musical instrument आदिवासियों का मुख्य वाद्य यंत्र हुआ करता है।

Aadivasi vadya yantra kaise hote hai Sing Baja kya hota hai

आदिवासी वाद्य यंत्र कैसे होते हैं aadivasi vadya yantra kaise hote Hain

जिस प्रकार के वाद्य यंत्रों का प्रयोग हम और आप अपने शहरी क्षेत्रों में करते या बजाते हैं, आदिवासियों के वाद्य यंत्र उससे कहीं ज्यादा अलग प्रकार के होते हैं। आदिवासियों द्वारा बनाए गए वाद्य यंत्रों के बनावट आमतौर पर बहुत बड़े या बहुत छोटे होते हैं।

आम आदमी इस प्रकार के वाद्य यंत्र musical instrument को देख ले तो उसे समझ ही नहीं आएगा कि इस प्रकार के वाद्य यंत्र को बजाते कैसे हैं। आदिवासी वाद्य यंत्रों का एक अलग पहचान और सलीका design होते हैं, जो इन वाद्य यंत्रों को बाकी वाद्य यंत्रों से अलग बनाता है। अलग-अलग समुदाय के आदिवासियों का वाद्य यंत्र भी अलग-अलग होते हैं जिन्हें वे स्वयं बनाते वह बजाते हैं।

Read Also

Lal Kile Ke Nirman mein kin kin samagri ka upyog kiya gaya hai | हिन्दी में

भारत ने पाकिस्तान पर क्यों किया था ब्रह्मोस मिसाइल से हमला?

आदिवासी वाद्य यंत्र के प्रकार aadivasi vadya yantra ke prakar

वाद्य यंत्र के विभिन्न प्रकार होते हैं परंतु आज हम आदिवासी वाद्य यंत्रों के कुछ मुख्य प्रकार के बारे में जानेंगे। आदिवासी वाद्य यंत्र के मुख्य प्रकार-
१) भांगसर लकड़ी से बनने वाला वाद्य यंत्र, इस प्रकार के वाद्य यंत्र को गुजरात के डांग जिले के आदिवासी प्रयोग करते हैं, इसमें मुख्य रूप से तीन वस्तुओं की जरूरत होती है; भांगसर लकड़ी, मधुमक्खी का मोम तथा कांसे की थाली। इस वाद्य यंत्र को हाथ के उंगलियों से रगड़ कर बजाया जाता है। डांग जिले के आदिवासी मुख्य रूप से अपने कुलदेवता डूंगर मावली को प्रसन्न करने के लिए बजाते हैं।


२) कहाडी तथा सूर, इस वाद्य यंत्र को साथ में बजाया जाता है। यह वाद्य यंत्र मोहरी के समान होता है परंतु उससे छोटा।


३) पीयू, यह एक प्रकार कि मुंह से बजाने वाली बांसुरी के समान वाद्य यंत्र है।

Aadivasi vadya yantra kaise hote hai Sing Baja kya hota hai


४) मांदर, आदिवासी मांदर को किसी विशेष कार्यक्रमों में बजाते है और यह वाद्य यंत्र मुख्यता छत्तीसगढ़, झारखंड और उड़ीसा जैसे राज्यों में बजाया जाता है।


५) चिकारा, यह वाद्य यंत्र में तार लगा होता है इस तार को खींचने से इसमें मधुर ध्वनि आती है।


आदिवासी वाद्य यंत्र के प्रकार में मुख्यता हवा से बजाने वाले, हाथ से बजाने वाले तथा तार युक्त वाद्य यंत्र प्रमुख होते हैं। इसमें मुख्यतः मांदर, पीयू आदि प्रचलित वाद्य यंत्र है।

आदिवासी वाद्य यंत्र बजाने के तरीके aadivasi vadya yantra bajane ke tarike

जिस प्रकार वाद्य यंत्र को बजाया जाता है अर्थात वाद्य यंत्र को बजाने का basic तरीका यह उस वाद्य यंत्र पर ही निर्भर करता है। यदि वाद्य यंत्र हवा से बजाने वाली हो तो उसे मुंह द्वारा बजाया जाता है।

आदिवासी मुख्यता मोहरी, पीयू आदि प्रकार के हवा से बजने वाला वाद्य यंत्र को प्रयोग में लेते हैं। ताल वाले वाद्य यंत्रों को बजाने के लिए हाथों के उंगलियों में पतले बांस के लकड़ियों को बांधकर मृदंग जैसे वाद्य यंत्र को बजाया जाता है।

भले ही आदिवासियों का वाद्य यंत्र अलग व हटके हो परंतु उसे बजाने का मुख्य तरीका हाथों से वह मुंह के जरिए से होता है।

आदिवासी वाद्य यंत्र का इतिहास aadivasi vadya yantra ka itihaas

यह कहना गलत नहीं होगा कि आज के आधुनिक मानव के पूर्वज भी पहले आदिवासी ही हुआ करते थे, इसका अर्थ यह है कि आदिवासियों का इतिहास भी बहुत पुराना माना जाता है तो यह भी गवारा नहीं है कि आदिवासियों का वाद्य यंत्र भी बहुत पुराना होगा।

विभिन्न प्रकार के वाद्य यंत्रों का अविष्कार तो पहले ही हो चुके थे और आज जो आप वर्तमान समय में नए-नए वाद्य यंत्र देखते हैं इनका मूलभूत आधार भी वह प्राचीन वाद्य यंत्र ही है। क्योंकि पहले लोग जंगलों में रहा करते थे, तो वह भी आदिवासी सभ्यताओं में रहे होंगे यह कहने का अर्थ यह है कि आदिवासी वाद्य यंत्र का इतिहास कई सौ साल पुराना होना गलत नहीं है।

सींग बाजा क्या होता है Sing baja kya hota hai

यह बाजा या वाद्य यंत्र एक ताल वाद्य यंत्र है, जिसे दो रबड़ के डंडों द्वारा बजाया जाता है सींग बाजा मुख्यता छत्तीसगढ़, उड़ीसा और कुछ दक्षिण क्षेत्रीय राज्यों में बजाया जाता है। सींग बाजा को जानवरों, जैसे:- भैंस आदि के चमड़े से बनाया जाता है जोकि बनने के बाद मधुर ध्वनि देती है। यह था जानकारी Aadivasi vadya yantra kaise hote hai? Sing Baja kya hota hai? आदि के बारे में।

आशा करते हैं कि हमारे द्वारा इस पोस्ट के जरिए दी गई जानकारी Aadivasi vadya yantra kaise hote hai? Sing Baja kya hota hai? आप के काम आए तथा यह पोस्ट पसंद आए तो शेयर जरूर करना। धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published.