harniya kya hota hai | हर्निया क्यों होता है पूरी जानकारी

harniya kya hota hai | What Is Hernia in Hindi | Harniya kyo aur kaise hota hai 

 दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको harniya kya hota hai के बारे में बताने जा रहे है | साथ ही आपको Harniya kyo aur kaise hota hai , Harnia ka ilaj | हर्निया के प्रकार ( Types of Hernia ) आदि आदि सभी विषयों पर विस्तार से बताएँगे |

harniya kya hota hai | What Is Hernia in Hindi | हर्निया क्यों होता है पूरी जानकारी

What is Hernia in Hindi | हर्निया एक आम बीमारी है तो कि किसी को भी हो सकती है | Hernia बच्चों से लेकर बड़ों तक किसी को भी हो सकती है | इसलिए हम सभी को इसका खतरा रहता ही है | इसलिए आज हम आपके लिए इससे जुडी सभी महत्वपूर्ण जानकारी लेकर आये है तो आइये जानते है कि harniya kya hota hai

What Is Hernia in Hindi – हर्निया क्या है

What Is Hernia in Hindi – हर्निया क्या है ? हर्निया एक आम बीमारी है जो कि नवजात शिशु से लेकर महिला एवं पुरुष किसी को भी हो सकती है | हालाँकि हर्निया के ज्यादातर Case आमतौर पर 50 वर्ष से अधिक के लोगों एवं बुजुर्गों में देखें जाते है | लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि स्वस्थ एवं नौजवान व्यक्ति को Hernia नहीं हो सकता |
Hernia स्वस्थ व्यक्ति को भी अपनी चपेट में ले सकता है | चाहे वह कितना भी तंदरुस्त और शक्तिशाली क्यों न हो | इसलिए इसके बारे में हम सभी को जानकारी होना बहुत जरुरी है |
Read Also

Harniya kya hota hai – हर्निया क्या होता है ?

Harniya kya hota hai | हर्निया पेट के किसी Muscles के ढीला हो जाने से उत्पन्न होने वाली एक आम बीमारी है | यह पेट के अन्दर और बाहर दोनों ही स्थान में हो सकती है | पेट के अन्दर होने वाले हर्निया को Internal Hernia या आंतरिक हर्निया कहते है (जैसे कि hiatal hernia ) |
HIATAL Hernia :
इस तरह का हर्निया पेट के अन्दर होता है । hiatal hernia stomach के chest में चले जाने से होता है । जिससे ACDT तथा पेट में दर्द आदि की समस्या होती है |
उसी प्रकार शरीर के बाहर वाले भाग में होने वाले हर्निया को External Hernia या बाह्य हर्निया कहा जाता है | Hernia जांघ में तथा Chest में भी हो सकता है | हर्निया पेट के नाभि से या अन्य जगह से बाहर आने की कोशिश करता है |
अर्थात शारीर के किसी सामान्य या असामान्य छेद से अंगो के बाहर निकलने को हम Hernia कहते है | यह निरंतर बढ़ने वाली बीमारी है |
अर्थात यदि किसी भी प्रकार के हर्निया का इलाज सही समय पर और सही ढंग से न किया जाये तो यह बहुत ज्यादा बढ़ सकता है जिससे व्यक्ति को काफी तकलीफ हो सकती है | यह दिनोदिन बढ़ता जाता है |
इस तरह से हमने जाना कि Harniya kya hota hai – हर्निया क्या होता है ? इसके कई प्रकार है जिसके बारे में हम आगे जानेंगे |

Types of Hernia in Hindi – हर्निया कितने प्रकार का होता है

हर्निया के कई प्रकार है इनमें से कुछ प्रमुख प्रकार जो आमतौर पर देखे जाते है इसके बारे आइये जानते है Types of Hernia in Hindi – हर्निया कितने प्रकार का होता है
 
हर्निया के प्रकार ( Types of Hernia ) को अलग अलग तरीकों से Categorize किया जाता है | लेकिन सामान्य तौर पर हर्निया को दो मुख्य भागों में विभाजित किया गया है –
  1. Ventral Hernia
  2. Inguinal hernia

Ventral Hernia (वेंट्रल हर्निया) :- 

Ventral Hernia (वेंट्रल हर्निया) पेट के उपर या पेट के आसपास होने वाला हर्निया है | वेंट्रल हर्निया के सामान्यतः तीन प्रकार के होते है
  • Epigastric hernia 
  • Umbilical hernia
  • Incisional hernia
आइये अब इन सभी के बारे में जानते है | ये सभी प्रकार के हर्निया पेट के आसपास होते है |

Epigastric hernia :

यह हर्निया पेट के उपर की तरफ होते है | अर्थात यह breastbone से नाभि तक की बीच होता है | इस प्रकार का हर्निया महिला एवं पुरुष दोनों को ही हो सकता है |

 

Umbilical hernia :

Umbilical Hernia नाभि में होता है | इसलिए इसे Belly Button Hernia या नाभि का हर्निया भी कहा जाता है | यह सामान्यतः नवजात शिशुओं में गर्भनाल में infection के कारण जगह ढीली हो जाने के कारण होता है |

Umbilical Hernia महिलाओं में भी होता है | महिलाओं में अधिक वजन के कारण भी यह हर्निया होता है |

 

Incisional hernia :

 Incisional hernia पेट के आसपास ऐसी जगह पर होता है जहाँ पहले कभी Open Surgery अर्थात ऑपरेशन हुआ है | ऑपरेशन के दौरान किसी प्रकार के संक्रमण के कारण यदि उस जगह पर Muscles ढीले हो गए है तो उस जगह पर Incisional hernia हो सकता है |

कई बार Operation के तुरंत बाद अगर कोई महिला या पुरुष कोई भारी काम करना शुरू कर देते है तो भी वह Incisional hernia का कारण बन सकता है | कई बार Operation के बाद खांसी के कारन भी इस प्रकार के हर्निया के केस देखे गये है |

Inguinal Hernia ( इंग्वाइनल हर्निया )

Inguinal Hernia

इंग्वाइनल हर्निया जांघों में होने वाला हर्निया है जो कि पुरुषों में होता है | इस तरह का हर्निया शुरुआत में बहुत छोटा सा होता है लेकिन समय के साथ बढ़ा होने लगता है |

इस तरह से हमने जाना कि Harniya kya hota hai | हर्निया कितने प्रकार का होता है |

आइये अब जानते है कि अगर किसी को हर्निया है तो उसका पता कैसे चलेगा | अर्थात हर्निया की पहचान कैसे करे

Read Also

क्या सच में बादाम खाने से दिमाग और याददाश्त तेज होती हैं ? जानिए सच्चाई |

Heart Attack क्यों आता हैं इससे कैसे बचें | नौजवानों को ही Heart Attack क्यों आ रहें हैं ?

हर्निया की जांच कैसे होती है

हर्निया की जांच कैसे होती है ? हर्निया की पहचान डॉक्टर सीधे देख कर या स्पर्श कर कर सकता है । यदि किसी कारण से physical examination से पता न चले से तो Ultra sound या CT SCAN की सलाह भी Doctor दे सकते हैं ।
इस तरह से हर्निया की पहचान के मुख्यतः 3 तरीके से की जाती है
  • Physical examination 
  • ultrasound
  • CT scan

Harniya kyo aur kaise hota hai

हर्निया हमारे पेट के आसपास में किसी Muscles के ढीलेपन के चलते शरीर के आंतरिक अंग का किसी भी सामान्य छिद्र जैसे नाभि या अन्य जगह से बाहर आने से होता है | यह आम सूजन से शुरू होता है और लगातार बढ़ता जाता है |
कई बार Operation के दौरान संक्रम से Muscles के ढीले पड़ जाने से हर्निया होता है तथा उस जगह से शरीर का आंतरिक अंग बाहर आने लगता है और फूल जाता है | महिलाओं में हर्निया नाभि के पास और पेट के Operations वाली जगहों पर देखे जाते है |
पुरुषों में जांघ के पास के हर्निया आम तौर पर देखें जाते है | कई हर्निया के Case में ये भी देखा गया है कि सोते समय या आराम करते समय हर्निया का वह भाग कुछ समय के लिए अंदर चला जाता है | लेकिन हर्निया कैसा भी हमारे शरीर के लिए तो खतरनाक है ही | इसलिए इसका इलाज जितनी जल्दी हो सके करवा लेना चाहिए |

हर्निया का खतरा किन लोगों को ज्यादा होता है ?

आमतौर पर देखा गया कि ऐसे लोग जो कि ज्यादा भारी काम करते है या ज़्यादातर खड़े रहकर काम करते है | उन लोगों में Hernia के ज्यादा Case देखे गए है | खड़े रहकर काम करने वाले जैसे बस कंडक्टर, ट्रेफिक पुलिस, कामगार मजदूर आदि में हर्निया के Case मिलते है |
इस तरह से भारी काम करने वाले , Gym में Body Building करने वालों में भी हर्निया की समस्या देखी जाती है | इसके अलावा कमजोर व्यक्ति जिसका शरीर काफी ढीला ढाला रहता है उनमें भी हर्निया की समस्या देखी गई है |

Treatment of Hernia in hindi – Harniya ka ilaj ( हर्निया का इलाज )

Treatment of Hernia in Hindi | हर्निया का इलाज कैसे होता है ? इसके ऊपर कई सारे Article और Youtube Videos आपको मिल जाएंगे | कुछ लोगों का कहना है कि हर्निया का इलाज साधारण दवाइयों के माध्यम से, होम्योपैथिक दवाइयों के माध्यम या आयुर्वेदिक दवाइयों से किया जा सकता है लेकिन इसकी सच्चाई क्या है आइए जानते है –
Treatment of Hernia | हर्निया का इलाज न तो किसी आयुर्वेदिक दवाओं से संभव है और न ही किसी allopathy दवाओं से | Hernia एक प्रकार की Physical बीमारी है | हर्निया का इलाज केवल Operations से ही संभव है | इसके लिए हर्निया मरीज को किसी Hernia Specialist के पास जाकर इलाज अर्थात ऑपरेशन करवाना चाहिए न कि किसी भी प्रकार के दवाओं में अपना समय और पैसा बर्बाद करना चाहिए |
Hernia के Specialist का मानना है कि हर्निया को केवल Surgery के मध्य से ही ठीक किया जा सकता है |

हर्निया का ऑपरेशन कैसे होता है – Operation of Hernia

हर्निया का ऑपरेशन कैसे होता है ? हर्निया का ऑपरेशन मुख्य रूप से तीन प्रकार से हो रहा है –
  1. Open Surgery 
  2. Laparoscopy Surgery 
  3. Robotic Laparoscopy Surgery 

Open Surgery : 

Open Surgery या Operation में मरीज को बेहोश कर हर्निया की जगह पर cut कर बाहर निकले हुये अंग को पुनः सही से अंदर दाल दिया जाता है | कुछ Case में उसे अलग भी किया जाता है | इसमें मरीज को ठीक होने में हफ्ते भर तक का समय लग सकता है | इसके बाद भी आराम करने की सलाह दी जाती है |
Open Surgery में उस जगह पर ऑपरेशन के बाद जाली लगा दी जाती है ताकि फिर से उस जगह पर हर्निया न हो |

Laparoscopy Surgery :

Laparoscopy Surgery में हर्निया वाले जगह के पास छोटा सा चीरा कर आधुनिक यंत्र द्वारा ( जिसमें Camera लगा होता ) बाहर निकले हुये अंग को अंदर व्यवस्थित किया जाता है | उसके ऊपर जाली लगा दी जाती है | यह जाली प्रोलीन की बनी होती है |
 Laparoscopy Surgery ओपन सर्जरी से ज्यादा बेहतर और सुरक्षित है और इसमें ब्लड Lose और infection का खतरा भी कम होता है और मरीज को दर्द भी कम होता है | इसमें समय की भी बचत होती है और मरीज को जल्दी आराम भी मिल जाता है |

Robotic Laparoscopy Surgery

Robotic Laparoscopy Surgery में सर्जन कंट्रोल System द्वारा यह काम करता है | सर्जन कंट्रोल Sytem से सारे उपकरणो को Control कर Robotic तरीके से operation करता है |
इस तरह से Hernia का इलाज केवल Operation ही है | किसी प्रकार के दवाइयों से इसका इलाज वर्तमान समय में संभव नहीं है |
इस तरह से आपने इस पोस्ट के माध्यम से जाना कि harniya kya hota hai | What Is Hernia in Hindi | हर्निया क्यों होता है ? हर्निया कितने प्रकार का होता है ? हर्निया की जांच कैसे होती है ? हर्निया का खतरा किन लोगों को ज्यादा होता है ? हर्निया का ऑपरेशन कैसे होता है ?
अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई तो इसे Share कर दूसरों को भी जागरूक करे |

Leave a Reply

Your email address will not be published.