Radar kya hota hai. रडार के प्रकार तथा 4 प्रमुख उपयोग |

आज के इस आधुनिक युग में science and technology का बहुत बड़ा योगदान है। विज्ञान के द्वारा दिए गए एक ऐसी technology जिसने navigation and defence system को आसान बना दिया है। हम बात कर रहे हैं Radar kya hota hai, radar technology के बारे में।

वर्तमान समय में विज्ञान की radar technology, जिसके मदद से हम aeroplane, satellite program जैसे क्षेत्रों में काफी उन्नति कर रहे हैं। आज जब कभी भी morden war होती है तो radar के सहारे हम दुश्मनों का आसानी से पता लगा सकते हैं। आज हम इसी high technology, radar system kya hai के बारे में जानने वाले हैं।

इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के बाद आपको radar kya hota hai से लेकर रडार से संबंधित सारी जानकारी आपको इस पोस्ट में मिल जाएंगे। हम यह भी जानेंगे कि भारत की radar टेक्नोलॉजी कैसी है। तो आइए जानते हैं radar kya hota hai के बारे में, यह जानकारी निम्न प्रकार से होने वाली है।

Read Also

S 400 Missile Defense System kaise kaam karta hai । S-400 in hindi

Kitne deshon ke paas parmanu bam hai – Nuclear Bomb Countries

Radar kya hota hai? What is radar system?
रडार क्या होता है?

Table of Contents

Radar एक ऐसी सिस्टम या प्रणाली होती है जो सूक्ष्म तरंगों द्वारा अर्थात् radio waves के help से किसी वस्तु का पता लगा सकती है।

रडार मुख्यता दिशा, दूरी, उचाई तथा गति से चलने वाली वस्तुओं जैसे:- मोटरसाइकिल, एरोप्लेन आदि वस्तुओं का पता दूर से ही आसानी से लगा लेती है और इसकी संकेत कंप्यूटर मॉनिटर में भेज देती है। जिससे किसी object से होने वाली गतिविधियों का पूर्व अनुमान लगाया जा सकता है।

Radar technology इतनी आधुनिक है कि radar का उपयोग मौसम को जानने के लिए अर्थात् मौसम में परिवर्तन का भी पूर्व अनुमान लगाया जा सकता है। वर्तमान समय में radar भविष्यवाणी करने वाली एक अच्छी और उपयोगी टेक्नोलॉजी है।

रडार किसी भी देश के लिए एक वरदान है, जिसके अभाव में किसी भी देश को आसानी से attack करके उस देश पर कब्जा किया जा सकता है। अतः radar वर्तमान समय में सभी देशों के लिए एक महत्वपूर्ण टेक्नोलॉजी बन गई है।

History of radar? Radar ka itihaas kya hai? रडार का इतिहास?

जबसे विज्ञान ने अपना जड़ पकड़ा है तब से लेकर आज तक विज्ञान के बदौलत अनेकों अविष्कार हुए हैं जिनमें से एक radar टेक्नोलॉजी है, जिसका इतिहास लगभग 100 साल पुराना है।

यह बात तब की है जब अमेरिकी देशों में हवाई उड़ानों का विकास बड़ी तेजी से हो रहे थे, परंतु जब वायुयान हवा में होते थे तो उन्हें अपना दिशा निर्धारित करने में काफी दिक्कतें आती थी जिसकी वजह से वायुयानों का दुर्घटना बढ़ गया था।

आगे चलकर अमेरिकी वैज्ञानिकों ने इस बात पर विचार किए और इस समस्या को दूर करने के लिए नई टेक्नालॉजी के आविष्कार के बारे में सोचने लगे जिससे इस समस्या को दूर किया जा सके और इस तरह आगे चलकर अमेरिकी वैज्ञानिकों द्वारा रडार प्रणाली का आविष्कार किया गया, जिसमें रेडियो तरंगों का प्रयोग किया जाता है और आगे चलकर यह radar technology, second world war में बहुत काम आया।

Radar ka aavishkar kisne kiya? रडार का आविष्कारक कौन है?

दोस्तों radar टेक्नोलॉजी अमेरिकी वैज्ञानिकों का देन है। रडार का आविष्कारक 1922 ईस्वी में अमेरिका के ए. एच. टेलर एवं लियो सी. यंग को माना जाता है। परंतु radar की पहली बार व्यावहारिक रूप से प्रयोग Robert Watson wat द्वारा किया गया था। हमने गुप्त सूत्रों से सही जानकारी हासिल की जिसके अनुसार रॉबर्ट वाटसन वाट radar and radio direction finding के प्रथम अन्वेषक pioneer हैं।

Radar ka ful form? Full form of radar? रडार का फुल फॉर्म क्या होता है?

आपने यह तो जान लिया है कि रडार क्या होता है? आइए radar का full form जानते हैं। Radar का फुल फॉर्म radio deduction and ranging होता है अर्थात् radio waves द्वारा उस क्षेत्र में आए object का पता लगाना।

India ke radar technology? भारत के प्रमुख रडार सिस्टम?

सभी देशों का अपना रडार प्रणाली होता है। हम आपको भारत के प्रमुख रडार प्रणाली के बारे में आज बताने वाले हैं। यह रडार सिस्टम इंडिया के DRDO द्वारा Indian armed forces के लिए बनाए गए हैं।

1) Rajendra radar:-

बहुत लोगों के मन में यह सवाल होता है कि Rajendra radar kya hota hai? यह रडार एक multifunction radar है। जिसे DRDO के electronics and radar development establishment द्वारा बनाया गया है। इस रडार का उत्पादन भारत इलेक्ट्रॉनिक्स BEL द्वारा किया गया है तथा राजेंद्र रडार का नाम भारत के प्रथम राष्ट्रपति Dr. Rajendra Prasad के नाम पर रखा गया है, इस रडार द्वारा 64 टारगेट को ट्रैक किया जा सकता है।

2) Indira radar:-

इंदिरा radar का मतलब Indian Doppler radar होता है। इस को मुख्यता डिफेंस के लिए विकसित किया गया है। इंदिरा रडार द्वारा स्मॉल टारगेट्स को 90 किलोमीटर तक की दूरी तक से track किया जा सकता है। यह radar 200 टारगेट को track कर सकती है तथा इस रडार को श्रीलंका airforce भी प्रयोग करती है।

3) Swathi radar:-

इस radar को खासतौर पर rocket fire को ट्रैक करने के लिए की तैयार किया गया है। इस radar द्वारा artillery को 2 से 30 किलोमीटर, rocket को 4 से 40 किलोमीटर तक की रेंज तक track कर सकती है। Swathi radar 20 टारगेट को ट्रैक कर सकती है।

इसके अतिरिक्त Central acquisition reader, samyukta rader और Bharoni radar आदि हैं।

India ka OTH(over the horizon) radar kya hai? What is OTH radar? OTH रडार क्या है?

Radar kya hota hai

आपने अमेरिका का B-2 और चाइना का H-20 bomber के बारे में तो जरूर सुना होगा। यह एयरक्राफ्ट बहुत ज्यादा high-technology से बने होते हैं जो कि radar के संपर्क में आने पर उसके radio waves को observe कर लेते हैं, जिससे इन एयरक्राफ्ट का पता नहीं चलता, परंतु इस प्रकार के एयरक्राफ्ट को भी OTH radar द्वारा पता लगाया जा सकता है।

OTH भारत की सबसे ज्यादा खतरनाक रडार है,जो कि 5000 किलोमीटर तक की दूरी से आसानी से वस्तु को ट्रैक कर सकती है। यह रडार बहुत बड़े साइज का होता है जो बहुत ज्यादा तरंगे छोड़ती हैं। इस radar में बहुत ज्यादा रिसीवर लगा होता है जो जो हल्के से भी कंपन को पकड़ लेती है।

Radar kya hota hai

Read also

Kitne deshon ke paas parmanu bam hai – Nuclear Bomb Countries

Radar ka Siddhant? रडार का सिद्धांत क्या होता है?

रडार मुख्य रूप से waves के जरिये किसी भी वस्तु को track कर पाता है। रडार में लगे transmetre और receiver द्वारा तरंगे छोड़ते है और catch करते है।

यदि तरंग के क्षेत्र में कोई object आती है, तो कंपन पैदा होती है जिसकी सहायता से रडार ऑब्जेक्ट की उपस्थिति को पता लगा लेती है। रडार के सिद्धांत गतिमान वस्तु और रेडियो वेव्स पर आधारित होता है।

Radar ke prakar? Types of radar? रडार कितने प्रकार के होते हैं?

रडार के मुख्यतः दो प्रकार होते हैं,

  1. primary radar
  2. secondary radar

Secondary radar के अंतर्गत कोई अन्य रडार नहीं आते, परंतु primary radar के अंतर्गत कुछ और रडार आते हैं, जैसे:- pulse radar and continuous wave reader.

Pulse radar के अंतर्गत भी दो प्रकार की radar आती हैं, जैसे:-

  1. frequency radar
  2. pulse modulated radar

इन दिनों radar में pulse modulated radar अधिक उपयोगी होता है।

Continuous wave radar इस रडार में भी दो प्रकार के रडार होते हैं, जैसे:-

  1. modulate radar
  2. un-modulate radar

इन दोनों radar में modulate radar अधिक उपयोगी होता है। इस प्रकार जितने रडार बनाए जाते हैं इन्हीं के अंतर्गत आते हैं।

Radar ke upyog? Uses of radar? रडार के क्या उपयोग होते हैं?

आधुनिक दुनिया में Radar का उपयोग अनेक purpose के लिए किया जाता है। Radar system का प्रयोग आज दुनिया के लगभग सारे देश द्वारा किया जाता है। Radar का उपयोग-

1) military application:-

जंग के समय weapon आदि को पता लगाने, छिपे हुए टारगेट को पता लगाने में और मिसाइल को गाइड करने में radar का उपयोग किया जाता है।

2) Air traffic control:-

वायुयानों को उनकी सही दिशा दिखाने में सहायता करती है। Radar aeroplane को सही डायरेक्शन देता है, जिससे एरोप्लेन अपने सही दिशा का पता लगा पाता है।

3) remote sensing:-

रडार मौसम को observe करता है और आने वाले मौसम परिवर्तन के बारे में बताता है। रडार समुद्री जहाजों के लिए सही मार्ग निर्धारित करता है।

4) space:-

radar की मदद से space में satellite की स्थिति को भी पता लगाया जा सकता है। यह space aircraft को भी guide करता हैं। आदि विभिन्न कामों के लिए रडार प्रणाली का उपयोग किया जाता है।

How radar works in Hindi? रडार कैसे काम करता है?

Radar को काम करने के लिए विभिन्न parts की आवश्यकता होती है, जैसे:- transmitter, antenna, receiver और other object. हम बारी-बारी से जानेंगे कि यह कैसे काम करते है।

1) transmitter:-

transmitter का मुख्य काम electromagnetic radiation जनरेट करने का होता है। यह एक प्रकार का जनरेटर होता है।

2) antenna:-

एंटीना transmitter से निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन को आगे फैलाने का काम करती है।

3) object:-

जब एंटीना electromagnetic radiation को फैलाती है और यदि इसके क्षेत्र में कोई object आता है तो वह radiation object से टकराकर वापस आती है।

4) receiver:-

जब टारगेट से टकराकर रेडिएशन वापस आती है तो इस रेडिएशन को रिसीवर द्वारा catch कर लिया जाता है। इस प्रकार जब कोई object radar area में आता है तो इसके बारे में पता चल जाता है। तो इस तरह हमने जाना कि रडार कैसे काम करता है।

Radar se kaise bache? रडार से कैसे बचा जाता है?

दोस्तों यदि कोई देश किसी मिशन को करने वाला होता है तो वह देश चाहता है कि दुश्मन देश के रडार से बचते हुए अपने मिशन को पूरा कर सके, ताकि उस मिशन के बारे में दुश्मन देशों को पता ना चले।

आज हम बताने वाले हैं कि radar से कैसे बचा जा सकता है, आइए जानते हैं। Radar के waves से बचने के दो मुख्य कांसेप्ट होते हैं।

1) यदि object waves से टकराते है तो उसे object द्वारा observe कर लिया जाता है।

2) जब object से waves टकराती है तो उस waves की दिशा को विचलित कर दिया जाता है जिससे वह रिसीवर तक नहीं पहुंच पाता।
इन दोनों concept को साथ में अपनाने के लिए High technology के aircraft जैसे:- B-2, H-20, F-22, US-117 आदि में किया जाता है।

यह ऐसे aircraft होते हैं जो रेडिएशन को 80 से 90 परसेंट तक सोख लेते हैं, जिससे radar पता नहीं लगा पाता कि सामने का object कोई aircraft है या नहीं। इस प्रकार High technology के aircraft radar से बच जाते है।

Radar aur Sonar mein antar? रडार और सोनार में अंतर?

जैसे कि हम जानते हैं कि रडार क्या होता है? अब हम आपको सोनार सिस्टम क्या है? बताने वाले हैं, sonar का अविष्कार चमगादड़ पर चल रहे reasearch के आधार पर किया गया था। सोनार एक ऐसा सिस्टम है जिसके अंदर से sound waves निकलती है और यह साउंड वेव्स द्वारा किसी ऑब्जेक्ट को पता लगाती है। आइए आप जानते हैं रडार और सोनार में क्या अंतर है।

1) radar, radio wave technology पर काम करती है, जबकि Sonar, sound wave technology पर काम करती है।

2) रडार का उपयोग हवा या जमीन के वस्तुओं का पता लगाने में किया जाता है, जबकि सोनार का उपयोग किसी लिक्विड या जल के वस्तु को पता लगाने में किया जाता है।

3) रडार का फुल फॉर्म- radio deduction and ranging होता है, जबकि सोनार का फुल फॉर्म- sound navigation and ranging होता है।
यह थे सोनार और रडार में मुख्य अंतर, बाकी दोनों का काम वस्तुओं का पता लगाने में ही किया जाता है।

Conclusion

आज हमने radar kya hota hai, sonar kya hota hai के बारे में जाना। यह radar एवं sonar दोनों ही एक विकसित देश के लिए बहुत उपयोगी technology है। वर्तमान समय में यह टेक्नोलॉजी नहीं होने पर देश के लिए अनेक problems आ सकती है क्योंकि यह technology विभिन्न खतरों से बचाने का काम करती है। War हो चाहे मौसम विभाग हो, यह सिस्टम सभी जगह में काम आती है।

आशा करते हैं कि आज का पोस्ट Radar kya hota hai आपको पसंद आया होगा। यदि कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें नीचे comments जरूर करना। धन्यवाद!

रडार क्या है इन हिंदी?

Radar एक ऐसी सिस्टम या प्रणाली होती है जो सूक्ष्म तरंगों द्वारा अर्थात् radio waves के help से किसी वस्तु का पता लगा सकती है।

रडार मुख्यता दिशा, दूरी, उचाई तथा गति से चलने वाली वस्तुओं जैसे:- मोटरसाइकिल, एरोप्लेन आदि वस्तुओं का पता दूर से ही आसानी से लगा लेती है और इसकी संकेत कंप्यूटर मॉनिटर में भेज देती है। जिससे किसी object से होने वाली गतिविधियों का पूर्व अनुमान लगाया जा सकता है।

रडार सिस्टम कैसे काम करता है?

जब टारगेट से टकराकर रेडिएशन वापस आती है तो इस रेडिएशन को रिसीवर द्वारा catch कर लिया जाता है। इस प्रकार जब कोई object radar area में आता है तो इसके बारे में पता चल जाता है।

रडार का आविष्कार कौन है?

Radar kya hota hai-Robert_Watson-Watt

radar टेक्नोलॉजी अमेरिकी वैज्ञानिकों का देन है। रडार का आविष्कारक 1922 ईस्वी में अमेरिका के ए. एच. टेलर एवं लियो सी. यंग को माना जाता है। परंतु radar की पहली बार व्यावहारिक रूप से प्रयोग Robert Watson wat द्वारा किया गया था।

रडार और सोनार के बीच का अंतर

1) radar, radio wave technology पर काम करती है, जबकि Sonar, sound wave technology पर काम करती है।

2) रडार का उपयोग हवा या जमीन के वस्तुओं का पता लगाने में किया जाता है, जबकि सोनार का उपयोग किसी लिक्विड या जल के वस्तु को पता लगाने में किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.